गुरु का मीन राशि में गोचर (Guru Gochar 13 अप्रैल, 2022)

गुरु 13 अप्रैल, 2022 को कुंभ राशि से मीन राशि में प्रवेश करेगा। वर्ष 2022 का गुरु का गोचर भ्रमण सभी के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाएगा क्योंकि यह एक स्थिर राशि में प्रवेश करेगा। फलस्वरूप, कठिन परिस्थितियों से गुजरने वाले लोग अपने जीवन को और अधिक स्थिर होते देखेंगे। वे विकास और प्रगति का अनुभव प्राप्त करेंगे और स्थिरता का अनुभव करेंगे। वे अपने कार्यों को सफलता के साथ पूरा होते हुए देखेंगे।

गुरु के गोचर व राशि परिवर्तन (Guru Rashi Parivartan) पर फलकथन।

jupiter-transit-predictions
पृष्ठों की संख्या:
प्रीमियम रिपोर्ट में 12 से अधिक पृष्ठ

Available in languages:

English Tamil Hindi
Average Rating:
Reviews:
गुरु व्यक्ति के जीवन में बहुत से सकारात्मक बदलाव लाता है। गुरु या बृहस्पति समृद्धि और सौभाग्य का कारक ग्रह है। इस गोचर काल में यह कुंभ राशि से मीन राशि में प्रवेश करेगा। आप हमारी गुरु गोचर रिपोर्ट 2022 (Jupiter Transit Report) द्वारा जान सकते हैं कि यह महत्वपूर्ण राशि परिवर्तन इस राशि परिवर्तन मे आपके जीवन को कैसे प्रभावित करेगा।
जीवन के विभिन्न पहलुओं पर गुरु के गोचर भ्रमण का प्रभाव
गुरु के स्वामित्व के भाव और राशि
आपकी जन्म कुंडली के आधार पर गुरु के इस गोचर का अध्ययन।
गुरु की प्रत्यक्ष और विशिष्ट दृष्टि
इस गोचर में गुरु के नकारात्मक प्रभावो के निराकरन के उपाय
कक्षा पर आधारित विस्तृत निकटकालीन फलादेश ।
trust-badge
Basic Premium Premium plus
Enter chart options & birth details
Chart Options
Style
Language
Name & Gender
Name
Gender
Birth Details
Place
Date
Time
By choosing to continue, you agree to our Terms & Conditions and Privacy Policy.
Enter payment options
Contact
Price of report 2010
Discount 1011
Discounted amount 999
GST(18%) 179
Payable amount 1178
Your report will be delivered to your Email ID within 3 hours..
Know More Your report will be delivered to your Email ID within 3 hours usually. However, it may take up to 24 hours sometimes. For any report delivery related issues please contact us at support@clickastro.com.
Select payment method:

No credit card or signup required

Fill the form below to get Jupiter Transit Predictions

User reviews
Average rating: 4.8 ★
1314 reviews
prathibha
★★★★★
Good report
anoop nair
★★★★
I have taken indepth horoscope Gem prediction
sithra devi karuppiah
★★★★★
Exactly accurate and just that it will be more better if they explain about horoscope chart well in detail .Overall is excellence
vinay
★★★★★
Nice
somanathan kv
★★★★★
Your report is excellent and easy to follow and understanding observation etc.
vivek yadav
★★★★
Certain predictions which are about my past can very much relate to .
lugendra pillai k
★★★★
The report is comprehensive in nature and well captured our charactor and attributes. The predictions is also mentioned in the report based on the Graha and Hora stages. But predictions require more specific in career a.path.
pankaj yadav
★★★★★
It's easy to understand and predictions are accurate
rishika khare
★★★★★
I loved the way it was presented seperately as numerology report , gemstone prediction and horrorscope . It had covered almost all the aspect so I loved it .
anusha n
★★★★★
It's good horoscope report
shivkumar subramanian
★★★★★
Good Analysis of horoscope with relevant stress on doshas
navjot
★★★★★
I loved the service!
pranav ghosh
★★★★★
I am highly obliged and indebted to your service regarding my detailed horoscope analysis and insightful remedies which proved beneficial for me in the long run. I recommended your service even to my friends and kins and all had the same worthful experience with you. Thanks a lot.
sri kala
★★★★★
Very nicely presented my queries. I am fully satisfied
sri kala
★★★★★
Very nicely presented my queries. I am fully satisfied
nitish bharadwaj r
★★★★★
Pretty helpful and motivating.
raghvendra upadhyaya
★★★★★
Help to know our past, present and future also
shweta
★★★★★
Tamil astrology needs the services of a premier in the field like Clickastro. It will do so much to get the attention of millennials into this ancient science. I would like to thank Clickastro management for this service to Tamil language and culture.
rakesh
★★★★
I had lost my original horoscope and therefore wanted to get one online. I preferred Telugu jathakam which suits our cultural style. I came across the free Telugu Jathakam on Clickastro and was amazed by the result. The horoscope was just as per my requirement and I have been greatly benefited thanks to the positivity reflected in my Telugu jathakam by Clickastro. I would recommend it to all my Telugu friends.
suman
★★★★★
I am someone who always looks up the daily horoscope. I am just curious to know how my day would unfold. Among all the ones that I refer, I personally prefer Clickastro's daily horoscope which exactly matches my day's events and activities. The lucky numbers, colors, etc. all have helped me whenever I had an important event or meeting. I am extremely pleased to recommend this site for all those who are like me.
shreya
★★★★★
Trying out Clickastro's Free kundli matching service felt natural. The detail and accuracy was impressive. But I think way too much of it has been covered. It is almost frustrating. If a little more could be offered, it would be good.
varun
★★★★
Checking out the Clickastro free horoscope compatibility was an interesting experience. It made me aware of the depth and detail that a paid compatibility report would cover. I have already purchased the premium report. It is awesome. ?
arya
★★★★★
I tried the free kundli just for fun. It was simple, easy. It almost makes you feel sad when you realize how unique you really are. It felt like someone really wanted me to know myself. Clickastro has very attractive offers for their detailed reports.
nishal
★★★★
I got the free career horoscope from Clickastro and was quite surprised at its preciseness in predictions. I am happy that I have been able to pursue a career of my choice. Thanks Clickastro! Keep up the good work
dilip
★★★★★
I purchased the report three months ago. Already predictions in the horoscope have proven to be accurate. My friend suggested Clickastro to me. I am glad he did. The glowing reviews I found on the web further enticed me. To me astrology is Clickastro.
sujoy samanta
★★★★★
Predictions by Acharya Anandji were very accurate. It gave me indepth knowledge of my life as a whole. I could figure out my shortcomings as well as strengths. He guided me on my future goals and steps to be taken to achieve them.Acharyaji also analyzed the horoscopes of my family. Overall I was told and guided in totality.
aarav
★★★★★
I have to say I expected a bit more free content in free marriage predictions. What is on offer is nice though. Maybe I will indeed buy a full report. Keep going, Clickastro ?
rajesh
★★★★
Free Kundli report by Clickastro is nice. It felt as if a dedicated effort has been made to make me realize the virtues of having a full report. I'm thinking of buying one now.
abhi
★★★★★
It was fun checking out the free horoscope compatibility page of Clickastro. It is really easy to use and hugely informative as well. Now, I am seriously thinking about purchasing a full compatibility horoscope. It should be fun.
priya
★★★★★
When I was really confused as to which career would best suit me, Clickastro's free career horoscope just provided me the best way forward. I am greatly satisfied by the results and now I am pursuing a career which best suits me and I am happy. Thank you Clickastro!

Testimonials From Renowned Astrologers

Sri. Kanippayyur Narayanan Namboodiripad
Sri. Kanippayyur Narayanan Namboodiripad
Astro-Vision Futuretech is the number one company providing astrological reports, which are very accurate. They are doing a great job by serving the people.
Sri. M V Naranarayanan
Sri. M V Naranarayanan
I have been using Astro-Vision mobile application for the past two years. It is very simple, useful and accurate. So, except Astro-Vision software, I am not using any other applications.
Dr.C.V.B. Subrahmanyam
Dr.C.V.B. Subrahmanyam
In older days, without checking panchangam, people didn't even stepped out of their homes. But in today's world, Astro-Vision has come up with an application which gives you information about Rasi, Navamsham, Bhava etc. which is really appreciative.
Smt. Gayatri Devi Vasudev
Smt. Gayatri Devi Vasudev
The digital avatars of Jyotisha powered by Astro-Vision have spread awareness and are ideal to today's fast paced life.

क्लिकएस्ट्रो गुरु गोचर (Guru Gochar) रिपोर्ट की महत्वपूर्ण विशेषताएं

गुरु गोचर (Guru Ka Rashi Parivartan)

गुरु को ज्योतिष में सभी ग्रहों में सर्वश्रेष्ट शुभ ग्रह का मान प्राप्त है। यह शुभ ग्रह एक वर्ष की अवधि में राशि चक्र का एक भ्रमण पूरा करता है, जिसका अर्थ है की यह प्रायः एक राशि में एक वर्ष तक रहता है। यह विस्तार और विकास का कारक होने से जिस राशि या भाव में स्थित रहता है उस राशि के गुणों की वृद्धि करता है। शुभ ग्रह होने से किसी भी भाव मे गुरु की उपस्थिती से अशुभ राशि या उस भाव के अशुभ फल निरस्त अथवा क्षीण हो जाते हैं और शुभ फलों की वृद्धि होती है। जब यह गोचर के समय राशि परवर्तन करता है तो इसका प्रभाव महीनों तक रहता है क्योकि यह सूर्य, बुध और शुक्र की तुलना में धीमी गति से विचरण करने वाला ग्रह है। गुरु धर्म का कारक है और इसकी कृपा दृष्टि से ही सब मंगलमाय अनुष्ठान सफल होते हैं।

गुरु गोचर (Guru Rashi Parivartan) का महत्व

गुरु हमें धन, बुद्धि, ज्ञान और आध्यात्मिकता की भावना प्रदान करता है। इसका गोचर यह जिस भाव में हो उस भाव की प्रकृति और उस भाव में स्थित ग्रहों के प्रभाव और स्वभाव में वृद्धि को प्रभावित करता है। यह व्यक्ति विशेष या जातक पर सकारात्मक प्रभाव डालता है और उसकी कार्यक्षमता को द्विगुणित करता है। यह जातक के जीवन में आर्थिक विकास और समृद्धि लाएगा। गुरु का गोचर बच्चों और परिवार का समग्र कल्याण भी सुनिश्चित करता है। इसका व्यक्ति के स्वास्थ्य और कल्याण पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। महिला जातकों के संदर्भ मे, गुरु विवाह में उनके सौभाग्य और एक योग्य पति की खोज का प्रतिनिधित्व करता है। यह व्यक्ति को ब्रह्मांड के गुप्त ज्ञान की अनुभूति या खोज के लिए प्रेरित करता है, साथ ही गुरु की कृपा से जातक आध्यात्मिकता की ओर भी अग्रेषित होता।

गुरु गोचर (Guru Gochar) रिपोर्ट प्राप्त करना क्यों महत्वपूर्ण है?

गुरु गोचर रिपोर्ट व्यक्ति के जीवन के सभी महत्वपूर्ण पहलुओं पर प्रकाश डालती है। इससे आपको यह जानकारी प्राप्त होगी की जीवन में अवसरों से अधिकतम लाभ कैसे प्राप्त करें, साथ ही कठिन समय से उबरने के उपाय भी बताएगी। यह रिपोर्ट आपके लिए एक मार्गदर्शक के रूप में कार्य करेगी जो यह बताएगी कि अनेक विकल्पों के होने पर या चुनाव करते समय कौन से रास्ते अपनाए जाएं, जो लाभकारी होंगे। सही समय पर सही निर्णय लेने पर सफलता निर्भर करती है, और यह रिपोर्ट आपको सफलता पाने में मदद करेगी। भौतिक जीवन में सफलता प्राप्त करने में आपकी सहायता करने के अलावा, रिपोर्ट आपके अंतर की आध्यात्मिक क्षमता को उजागर करने में भी मदद करेगी। यह आपको विपरीत परिस्थितियों में परिपक्व व्यवहार करने और अपने परिवेश के लोगों का सम्मान और प्रशंसा जीतने में मदद करेगा। गुरु धर्म का सूचक ग्रह है, और गुरु की गोचर रिपोर्ट आपको अपने धर्म का पालन करने में मदद करेगी और इस प्रकार आप जीवन में अपने उद्देश्य को पूरा करने मे सफल होंगे।

रिपोर्ट में क्या है: विस्तृत सामग्री

गुरु गोचर की विस्तृत प्रीमियम रिपोर्ट में ग्रहों के निरयण देशांतर, दशा काल का विवरण और अष्टकवर्ग का फलादेश शामिल हैं। इसमें जन्म कुंडली में गुरु की स्थिति का विस्तृत विश्लेषण शामिल है, यह विश्लेषण गुरु किस भाव और राशि मे स्थित है, उनके अनुसार बदलते हैं, या भिन्न हो सकते हैं। आध्यात्मिकता का कारक यह ग्रह समान्यतः व्यक्ति को इसी मार्ग पर चलने के लिए प्रेरित करता है और जीवन के सभी पहलुओं पर आशावादी रुख अपनाने के लिए सहायता करता है। गुरु गोचर भविष्यवाणी जन्म कुंडली में ग्रहों की वर्तमान स्थिति पर आधारित हैं। कुंडली के भावों पर गुरु की दृष्टि के प्रभाव को रिपोर्ट में विस्तृत रूप से समझकर सारांशित किया गया है, उसी प्रकार से यह विश्लेषण विभिन्न कक्षाओं के लिए भी दिया गया है। कक्षा अवधारणा का उपयोग मुख्य रूप से यह समझने के लिए किया जाता है कि भ्रमण के जातक के जीवन में क्या परिणाम होंगे।

ग्रहों का निरयण अक्षांश

निरयण, या ग्रहों का नक्षत्र देशांतर, कुंडली में ग्रहों की स्थिति के निर्धारण के लिए किया जाता है। प्रत्येक कुंडली एक 360-अंश का वलय है जो 12 भावों में विभाजित है। अर्थात प्रत्येक भाव 30 अंश का होता है। निरयण अक्षांश किसी समय विशेष पर उस भाव में स्थित ग्रह की स्थिति बताता है। निरयण देशांतर ज्ञात करने हेतु नक्षत्रों को नियत बिन्दुओं के रूप में रखा जाता है। इस प्रकार यह सायन पद्धती से भिन्न है, क्योंकि सायन गणना में सूर्य को स्थिर बिंदु के रूप में रखा जाता है। निरयण देशांतर और सायन देशांतर के बीच का अंतर अयनांश या नक्षत्र कुंडली के बीच का अंशात्मक अंतर है। वैदिक ज्योतिष में फलादेश के लिए निरयण पद्धति का अनुसरण किया जाता है।

दशा काल का विवरण

भारतीय वैदिक पद्धति में नौ ग्रह माने गए हैं। दशाफल के निर्धारण में यह किसी भी व्यक्ति के जीवन में किसी विशेष समय पर कुंडली में एक निश्चित ग्रह सदैव कार्यरत होता है। उस समय जातक पर इस ग्रह का प्रभाव सबसे अधिक रहता है। ज्योतिष में इसी कों ग्रहदशा कहते हैं। विषोंतरी दशा पद्धति सर्वमान्य प्रणाली है। यह 120 साल का चक्र है जो नौ ग्रहों में विभाजित है। क्रम के अनुसार, इस पद्धति के अंतर्गत ग्रहों की विशिष्ट वर्षों की दशा अवधि हैं - केतु (7 वर्ष), शुक्र (20), सूर्य (6 वर्ष), चंद्र (10 वर्ष), मंगल (7 वर्ष), राहु (18 वर्ष), गुरु (16 वर्ष), शनि (19 वर्ष) और बुध (17 वर्ष)। प्रत्येक ग्रह की दशा अवधि को इसके उपरांत उप-अवधि में विभाजित किया जाता है, जिसके दौरान अन्य ग्रह मुख्य दशा या महादशा में ग्रह के शासन के अधीन अपना प्रभाव डालते हैं।

अष्टकवर्ग:

अष्टकवर्ग तालिका में प्रत्येक भाव का 8 गुना विभाजन होता है। सूर्य, चंद्र, बुध, शुक्र, मंगल, गुरु और शनि ग्रह माने जाते हैं। वही राहु और केतु को ग्रह नहीं, अपितु छाया ग्रह माना जाता है। लग्न को आठवां ग्रह माना जाता है। प्रत्येक ग्रह को दूसरे ग्रह के संबंध में रेखा या बिंदु दिये जाते हैं। रेखा का अर्थ शुभ फलदायी, और 'बिन्दु ' का अर्थ अशुभफलदायी होता है। किसी ग्रह को प्राप्त कुल बिंदु 0 और 7 के बीच हो सकते हैं । फिर 8 ग्रहों में से प्रत्येक के अंक जोड़े जाते हैं। यह उस भाव को प्राप्त सब गुणों को दर्शाता है। यदि ये गुण 18 से कम हो, तो उस भाव के नकारात्मक लक्षण प्रबल होते हैं। 18-25 के बीच गुणनफल हो तो मध्यम फल और 25-28 के बीच प्राप्त संख्या को शुभ माना जाता है, और 28 से अधिक का गुण हों तो अत्यंत शुभ माना जाता है।

सर्वाष्टकवर्ग तालिका

सर्वाष्टकवर्ग तालिका मे किसी विशेष राशि से भ्रमण करते समय किसी ग्रह विशेष के प्रभाव की गणना की जाती है। राशि पर उस ग्रह का प्रभाव, और अन्य ग्रहों के प्रभाव की गणना की जाती है। यदि प्रभाव सकारात्मक है, तो ‘रेखा” और यदि प्रभाव नकारात्मक है, तो 'बिन्दु' अंकित किया जाता है। उदाहरण के लिए, यदि सूर्य का मेष राशि में प्रवेश करना अनुकूल प्रभाव डालता है, तो सूर्य के कक्ष मे रेखा अंकित की जाती है। अब, यदि मेष राशिगत सूर्य चंद्र के लिए शुभ नहीं है, तो चंद्र को बिन्दु प्रदान किया जाता है। चंद्रके बाद यदि सूर्य मेष राशि में मंगल के लिए शुभ हो तो मंगल रेखा अंकित की जाती है। लग्न, राहु और केतु के अतिरिक्त सभी 7 ग्रहों को प्राप्त रेखाओं और बिन्दुओं की गणना की जाती है। प्राप्त परिणाम यदि 0 और 3 के बीच हो तो इसे अशुभ माना जाएगा। अर्थात सूर्य का मेष राशि में गोचर किसी व्यक्ति के लिए अशुभ फलदायी हो और यदि प्राप्त गुण 4 है, तो परिणाम साधारण माना जाता है, और यदि प्राप्त गुण 5-8 के बीच हों तो यह गोचर अच्छा माना जाता है।

सर्वाष्टकवर्ग तालिका

यह अष्टकवर्ग में प्राप्त अंकों का तदुपरान्त सूक्ष्म और व्यापक सारणीकरण है। सर्वाष्टकवर्ग तालिका में, गणना किए गए किसी विशेष ग्रह के कुल अंक उक्त राशि के आगे अंकित होते हैं। फिर उस राशि में प्रत्येक ग्रह के कुल अंक जोड़ दिए जाते हैं। यदि प्राप्त अंक 28 से कम है, तो उस राशि का प्रभाव अशुभ होगा। यदि यह 28 से अधिक है, तो राशि का प्रभाव लाभकारी होगा। सम्पूर्ण राशिचक्र के प्राप्त अंक 337 होंगे। इनके विश्लेषण से, इस जीवन में जातक के बलाबल, शुभाशुभ फलों और व्यक्ति के कर्मफलों की गणना की जा सकती है।

आपकी जन्म कुंडली में गुरु का विश्लेषण

जन्म कुंडली में, गुरु 9वें और 12वें भावों का स्वामी होता है और द्वितीय, पंचम, दशम और एकादश भावों का कारक है। सकारात्मक स्थिति में गुरु जातक को स्वास्थ्य, धनधान्य और समृद्धि के साथ साथ सुंदर व्यक्तित्व प्रदान करता है। बलवान गुरु जातक में शुभ संस्कारों का विकास करने और स्वस्थ और सुनिश्चित केंद्रिभूत मानसिकता विकसित करने सहायक होता है। वहीं पीड़ित गुरु जातक को अव्यावहारिक और मूर्खताओं के लिए अतिसंवेदनशील बनाता है। जातक में व्यर्थ में धन खर्च करने की प्रवृति बढ़ती है और वह ध्युत, जुआ आदि अनैतिक कार्यों में लिप्त होता है। जिससे वह ऋणी और व्यर्थ के विवादों के कारण दुखों को प्राप्त होता है। उत्तम पुखराज रत्न को धारणकर जातक गुरु का कृपा पात्र हो सकता है।

किसी भी समय में ग्रहों की स्थिति को दर्शाने वाली कुंडली को गोचर कुंडली कहते हैं। ग्रह हमेशा गतिशील रहते हैं और कुंडली के 12 भावों में विचरण कर रहे होते हैं। उन के संबंध उनकी स्थिति और एक दूसरे पर पड़ने वाली दृष्टियों के अनुसार नित्य बदलते रहते हैं। इस निर्बाध परिवर्तन का प्रभाव व्यक्ति के जीवन पर और जन्म कुंडली पर पड़ता रहता है। जब हम गोचर भ्रमण के संदर्भ में बात करते हैं तब हम किन्ही दो या अधिक ग्रहों की इस ब्रम्हाण्ड में ग्रह स्थिति का अध्ययन कर रहे होते हैं जो संसार में सजीवों के भाग्य को विशेष रूप से प्रभावित करते हैं। जिसका विश्वभर के लोगों के भाग्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ेगा। गोचर कुंडली जन्म कुंडली से भिन्न होने का तात्पर्य यह है की जन्मकुंडली में ग्रह स्थिर रहते हैं जब की गोचर कुंडली में वे निरंतर बदलते रहते हैं।

गुरु गोचर फलादेश (Guru Gochar Predictions)

गुरु सौर मण्डल का सबसे बड़ा ग्रह है यह एक मंद गति का ग्रह है जो कुंडली में बारह राशियों में विचरण करने में बारह वर्ष का समय लेता है। अर्थात, यह एक राशि में एक वर्ष तक भ्रमण करता है। गुरु की किसी राशि विशेष में उपस्थिती उस राशि के शुभ गुणों को बढ़ाती है और अशुभ प्रभावों को कम करती है। जब भी गुरु वक्री होते हैं तो जातक के जीवन में परिवर्तन लाते हैं और उसकी आध्यात्मिक, आंतरिक और धार्मिक प्रवृत्ति का उत्थान करते हैं। जब ग्रह विपरीत दिशा में संचार कर रहा होता है तो उसे वक्री गृह कहते है। जिन जातकों की कुंडली में गुरु वक्री होता है वे ऐसे करी करने में सक्षम होते हैं जो किसी अन्य सामान्य व्यक्ति के लिए असंभव प्रतीत हों।

गुरु की दृष्टियां

कुंडली में प्रायः सभी ग्रह अपने स्थान से सातवें स्थान को पूर्ण द्रष्टि से देखते है।

गुरु सप्तम स्थान के अतिरिक्त अन्य दो अर्थात पंचम और नवम भाव को भी पूर्ण द्रष्टि से देखता है। कुंडली का पंचम भाव शिक्षा का और नवम भाव उच्च शिक्षा का भाव माना गया है। वैदिक ज्योतिषशास्त्र में गुरु को शिक्षक की संज्ञा प्रदान की गई है अर्थात इसे “गुरु” माना गया है और शिक्षा मानव जीवन का एक प्रमुख आयाम है जो कुंडली में किसी भी ग्रह को प्रदत्त है। इस तरह स्वाभाविक रूप से पंचम दृष्टि से जातक किसके लिए शिक्षकतुल्य, सप्तम द्रष्टि से किसे ज्ञान प्रदान करता है और नवंम से इसके लिए पितृतुल्य है इस पर प्रकाश डालता है।

गुरु का विविध कक्षाओं से विचरण।

अष्टकवर्ग पद्धति में हर भाव का आठ भागों में विभाजन किया जाता है। प्रत्येक भाग 3 अंश 45 कला का होता है जिसे कक्षा कहते हैं। यदि किसी कक्षा को बिन्दु प्राप्त है तो वह उस ग्रह के शुभ फल को इंगित करता है। यदि कक्षा को बिन्दु प्राप्त नहीं है तो शुभ फलों की अनुपस्थिति का ध्योतक होगा। हर कक्षा एक गृह विशेष के स्वामित्व में होती है। गुरु राशि की द्वितीय कक्षा का अधिपति होता है। यह हर कक्षा से विचरण करने में 45 दिनों की अवधि लेता है। गुरु के किसी कक्षा से विचरण का पूरा प्रभाव जातक पर गुरु और उस कक्षा के स्वामी के सम्बन्धों पर आधारित होता है। शनि प्रथम कक्षा का स्वामी होता है। तदुपरांत, गुरु द्वितीय, मंगल त्रातीय, सूर्य चतुर्थ, शुक्र पाँचवी, बुध छठी, चंद्रसातवी और लग्न आठवीं कक्षा का अधिपति होता है।

मार्गी और वक्री गती

सामन्यतौर पर आकाश को देखने पर ग्रह पूर्व की ओर विचरते दिखाई देते हैं। जैसे जैसे दिन गुजरते हैं तो पूर्व में स्थित तारे जो स्थिर होते हैं, उनकी पूर्वगामी गति मार्गी कहलाती है। परंतु, कभी कभी मंद गति से चलने वाले ग्रह विपरीत दिशा की ओर चलते दिखाई देते हैं। अर्थात, वे ग्रह आकाश में एक विशेष अवधि के लिए अपनी समान स्थिति और गति में आने से पहले पश्चिम की दिशा की ओर गतिशील लगते हैं। उस समय उस ग्रह को वक्री ग्रह कहा जाता है। यह तब घटित होता है जब पृथ्वी किसी मंद गति ग्रह को अपनी वार्षिक सूर्य परिक्रमा के दौरान पीछे छोड़ती प्रतीत होती है। वक्री ग्रह भी जातक पर विशेष प्रभाव डालते हैं। वक्री गुरु जातक में आध्यात्मिक प्रवृत्ति को बढ़ाता है और उसे अपनी अंतर चेतना की खोज के प्रति प्रोत्साहित करता है।

कुंडली के द्वादश भावों से गुरु का संचार।

गुरु राशिचक्र की बारह राशियों से भ्रमण के लिए कुंडली के द्वादश भावो से संचार के लिए 12 वर्ष को अवधि लेता है। इसका अर्थ है की वह हर राशि में एक वर्ष रहता है। गुरु एक शुभ ग्रह है और इसका छठवें और आठवें भाव के अतिरिक्त हर भाव से गोचर भ्रमण शुभ फल प्रदान करता है। छठवें और आठवें भाव में यह सामान्य फल देता है। गुरु का प्रथम भाव से संचार जातक को शारीरिक और मानसिक तौर से स्वस्थ बनाता है। गुरु का द्वीतीय भाव से संचार जातक के सामाजिक सम्बन्धों को सुधारता है। तृतीय भाव में यह जातक को प्रतिष्ठा दिलाता है। चतुर्थ भाव में गोचर संचार से गृह सौख्य की प्राप्ति होती है। पंचम भाव में यह प्रेम संबंध बढ़ाता है। छठे भाव में यह मानसिक स्थिति को प्रभावित करता है। सप्तम भाव में वैवाहिक सुख देता है। अष्टम भाव में मानसिक दुविधाओं को बढ़ाता है। नवम भाव से विचरण में आध्यात्मिक शांति प्रदान करता है। दशम भाव में नौकरी और कामकाज के कार्य में सफलता दिलाता है। एकादश भाव में आर्थिक लाभ देता है, और द्वादश भाव में मानसिक तनाव और अकेलेपन को बढ़ाता है।

गुरु के राशिचक्र में संचार की तिथियाँ

वर्ष 2022 की शुरुआत कुंभ राशि में गुरु से होगी। यह अपनी स्वराशि मीन में 13 अप्रैल को प्रवेश करेगा और वहां अंदाजन एक साल स्थित रहने के बाद 21 अप्रैल, 2023 को मेष राशि में प्रवेश करेगा।

  • वृषभ राशि में गोचर - 1 मई, 2024
  • मिथुन राशि में गोचर - 14 मई, 2025
  • कर्क राशि में गोचर - 18 अक्टूबर, 2025
  • मिथुन राशि में गोचर (वक्री) - 5 दिसंबर, 2025
  • कर्क राशि में गोचर - 6 जनवरी 2026
  • सिंह राशि में गोचर - 30 अक्टूबर 2026
  • कर्क में गोचर (वक्री) - 24 जनवरी, 2027
  • सिंह राशि में गोचर - 25, 2027
  • कन्या राशि में गोचर - 26 नवंबर, 2027
  • सिंह में गोचर (वक्री) - 28 फरवरी, 2028
  • कन्या राशि में गोचर - 24 जुलाई, 2028
  • वृश्चिक राशि में गोचर - 24 जनवरी, 2030
  • तुला राशि में गोचर (वक्री) - 1 मई, 2030
  • वृश्चिक राशि में गोचर - 22 सितंबर, 2030
  • धनु राशि में गोचर - 17 फरवरी, 2031
  • मकर राशि में गोचर - 5 मार्च, 2032
  • धनु राशि में गोचर (गोचर) - 12 अगस्त, 2032
  • मकर राशि में गोचर - 23 अक्टूबर 2032
  • कुंभ राशि में गोचर - 17 मार्च, 2033
  • मीन राशि में गोचर - 27 मार्च, 2034

इस प्रकार गुरु 13 अप्रैल, 2022 से मीन राशि से होकर राशि चक्र का अपना 12 साल का चक्र पूरा करेगा।

2022 Jupiter transit predictions

2022 Transit combo pack

COMBO TRANSIT OFFER ( JUPITER, SATURN & RAHU-KETU )

Jupiter Transit Predictions

Jupiter is the planet of expansion and development. On April 13, 2022 Jupiter transit from Aquarius to Pisces. Get the 2022 Jupiter transit predictions.

+

Rahu-Ketu Transit Predictions

The Vedic Astrology planets Rahu & Ketu have changed their signs to Aries and to Libra respectively on 12th of April 2022 and remains there up to 30th October 2023. These sign changes can influence the matters in your career, marriage etc. and you can know in detail about the effects from this Rahu-Ketu Transit Report.

+

Saturn Transit Predictions

Shani or Saturn is the planet of obstructions and limitations. It has moved from Sagittarius to Capricorn on 24th January 2020. This Saturn Transit Report gives a detailed report on the effect of this sign change on your personal and professional lives.

58% OFF
₹6009/-₹2499/-

सामान्यतः पूछे जाने वाले प्रश्न

अभी गुरु किस राशि में गोचर कर रहा है?

फिलहाल गुरु कुंभ राशि में गोचर कर रहा है। यह 13 अप्रैल 2022 को अपनी स्वराशि मीन में प्रवेश करेगा। ज्योतिषशास्त्र में गुरु के गोचर का अति महत्व है। यह धर्म का प्रतिनिधि ग्रह है और सांसारिक और आध्यात्मिक गतिविधियों के विकास का कारक है।

अब गुरु का गोचर कब होगा?

गुरु का पिछला राशिप्रवेश 20 नवंबर, 2021 को कुंभ राशि में हुआ था। अगला गोचर राशि प्रवेश 13 अप्रैल 2022 मीन राशि में होगा ।प्रायः हर राशि में गुरु का संचार व्यक्ति के जीवन में कई मूलभूत परिवर्तन लाता है।

2022 में गुरु कौनसे भाव में होंगे?

गुरु कुंभ राशि से विचरते हुए 13 अप्रैल, 2022 को अपनी स्वराशि में मीन मे प्रवेश करेगा। यह राशि चक्र की बारहवीं राशि है। मीन राशि से होने वाला गुरु का गोचर जातकों में रचनात्मक सद्भावना प्रदीप्त कर विश्व कल्याण के प्रयत्नरत लोगों में आशा की किरण जगाएगा जिससे आपसी सद्भाव बढेगा।

गुरु का गोचर कितने समय तक चलता है?

हर भाव में गुरु लगभग एक वर्ष तक रहता है। राशि चक्र में 12 भावों का भ्रमण पूरा करने में गुरु को बारह वर्षों का समय लगता हैं। शनि के बाद किसी राशि से गोचर करने में सर्वाधिक समय गुरु लेता है। इसलिए किसी भी व्यक्ति पर गुरु के गोचर का प्रभाव जीवन में भाग्योदय हेतु बहुत अधिक महत्व रखता है।

ज्योतिष अनुसार गुरु के स्वामित्व के अधीन क्या है?

गुरु सौभाग्य और समृद्धि का कारक गृह है। यह भाग्य और वृद्धि का अधिष्ठाता है और राशिचक्र की नवां राष धनु और बरहवीं राशि मीन का स्वामी है। गुरु के प्रभाव ससे जातक भौतिक और आध्यात्मिक दोनों क्षेत्रों में विकास का अनुभव करते हुए सम्बन्धों को प्रगाढ़ करता है तथा सामाजिक स्थिति का उत्थान करता है। जातक इसके प्रभाव से आत्मचिंतन और मंथन से अपने भीतर की सुप्त चेतना को जागा कर व्यक्तित्व की गहराइयों को प्रकाशित करता है।

गुरु के सप्तम भाव में संचार का क्या फल होता है?

गुरु का सप्तम से विचरण संबंधों को सुधारता है, विवाह के इच्छुक जातको के विवाह होते हैं और विवाहित लोगों के वैवाहिक जीवन अधिक सुखद होता हैं, संतान प्राप्ति होती है सामाजिक और व्यावसायिक जीवन के लिए भी गुरु का गोचर शुभ सिद्ध होता है। जातक को सभी आयामों से आदर और सराहना मिलती है। कार्यक्षेत्र और व्यवसाय में लाभ और धनार्जन होता है।

क्या इस समय गुरु वक्री है?

नहीं, वर्तमान में गुरु मार्गी है, निकट भविष्य में गुरु 5 दिसंबर 2025 को वक्री होकर कर्क से मिथुन राशि में प्रवेश करेगा। गुरु के वक्री होने से जातक अंतर्मुखी होकर अध्यात्म मे रुचि लेकर अपने व्यक्तित्व में कई अमुलाग्र परिवर्तन करता है।

क्या गुरु मीन राशि का स्वामी है?

हाँ। गुरु मीन का स्वामी है। इसके अतिरिक्त यह धनु राशि का भी स्वामी है। गुरु का स्वराशि से संचार संसार केलिए सुख और सौभाग्य लाता है और आध्यात्मिक विश्व, सांसारिक सद्भाव और सार्वभौम समृद्धि का कारण होता है।

गुरु के बारहवें भाव में संचार के क्या फल होते हैं?

12वें भाव का अधिपति गुरु है। आध्यात्मिक दृष्टि से 12 वें भाव से गुरु का गोचर भ्रमण शुभ फल देता है परंतु भौतिक दृष्टि से इसके मिश्र फल मिलते हैं। खर्च और व्यायाधिक्य के योग बनते हैं। व्यवसाय में हानी की संभावना बढ़ती है। निजी जीवन में भी कठिनाइयाँ आती हैं। तथापि, यह आध्यात्मिक विकास, वेदाभ्यास, अध्ययन और तीर्थयात्राओं के लिए बहुत शुभ होता है।

गुरु के प्रथम भाव में संचार के क्या फल होते हैं?

गुरु का प्रथम स्थान से संचार शुभ फल देता है। यह जातक को धन धान्य, समृद्धि, बुद्धिमत्ता देता है। व्यवसाय में प्रगति होती है और नौकरी आदि में भी उत्कर्ष होता है। परंतु, अहंकार और अतिशयोक्ति से बच कर अंतरमुखी भाव से एक संयमित व्यक्तित्व के विकास के लिए भावनात्मक और नैतिक रूप से जातक को प्रयत्नशील होना चाहिए।

स्वग्रही गुरु के संचार के क्या फल मिलते हैं?

स्वग्रह से संचाररत गुरु विद्वता, धन धान्य और आध्यात्मिक बल प्रदान करता है। जातक को नई पहचान, आदर व सम्मान दिलाता है। परंतु, साथ ही जातक के इस संचार में अवास्तववादी होकर अति महत्वाकांक्षी होने की संभावना बढ़ जाती है। अतिशय उदारता से और बहुत अधिक खर्च से व्यायाधिक्य उसे आर्थिक कठिनाइयों में डाल सकते हैं।

गुरु का अधिपति कौन है?

गुरु का कोई स्वामी न होकर वह स्वयं सब ग्रहों में श्रेष्ठ और गुरु समान माना गया है। यह स्वयं धनु और मीन इन दो राशियों का स्वामी है।

आध्यात्मिकता के दृष्टिकोण से गुरु का क्या अर्थ हैं ?

गुरु विस्तार का ग्रह है, और इसका अर्थ आध्यात्मिक विस्तार भी है। यह व्यक्ति को बौद्धिक स्तर पर विचारशील बनने की क्षमता प्रदान करता है। गुरु के प्रभाव में व्यक्ति अपनी आध्यात्मिक तृष्णा और जिज्ञासाओं को पूरा करने के लिए लंबी यात्राएं या तीर्थ यात्राओं पर जा सकता है। व्यक्ति परोपकारी और स्नेही होगा। उसमें सम्मान की भावना होगी और वह हर समय सही रास्ते पर चलना चाहेगा। विशिष्ट रूप से गुरु व्यक्ति को नैतिकता और सदाचार के मार्ग पर ले जाता है और इन गुणों के लिए प्रेरित करता है।
Compare Features
BASIC
NA
PREMIUM
PDF via E-mail
PREMIUM +
NA
Analysis of Jupiter in Birth Chart
NA
NA
Lordships of jupiter in your birth chart
NA
NA
Transit predictions
NA
NA
Detailed near term predictions based on Kakshya
NA
NA
Detailed jupiter transit predictions upto next jupiter transit
NA
NA
Not Available
Get Basic
50%OFF
Rs.2010
Rs.999
Buy Premium
View Sample
Not Available
Buy Premium+
X
What others are reading
left-arrow
Saturn Transit 2022 - Predictions for 12 Zodiac Signs
Saturn transit to Aquarius [2022 Predictions] Every Saturn transit brings long-lasting changes in one's life. Saturn is the planet for longevity, stability, firmness, but it is also the planet for delays and obstacles. People don't lik...
Rahu Ketu Transit 2022 Predictions for All Zodiac Signs
Rahu and Ketu are two parts of the same entity named Swarbhanu. Swarbhanu was the king of Asuras. During the churning of the ocean, Asuras and Devas had a pact to distribute the divine nectar equally. Later on, Devas decided not to take...
Guru Gochar 2022 Predictions - गुरु का मीन राशि में गोचर
इस वर्ष गुरु का गोचर 13 अप्रैल 2022 को होने वाला है। ग्रहों में सबसे अधिक शुभ ग्रह की ख्याति प्...
Jupiter Transit in Lagna Effects
Jupiter Transit Through Lagna Lagna is the sign rising in the east at the time of birth. There are twelve signs, and every day, these signs become the Lagna of someone. For example, the Moon goes through one nakshatra every day, and on...
Jupiter Transits To Pisces 2022: Know Its Effects On All Zodiacs
Jupiter transit in Pisces 2022 Jupiter transit 2022 will happen on April 13. The most benefic among planets will move from Aquarius to own house of Pisces. It will become retrograde on July 29. It will then become progressive on Novemb...
Jupiter Transit and its Importance
Jupiter Transit and its Importance Have you ever heard of the term gentle giant? We use it to refer to mighty beings who are sensitive and sympathetic towards the plight of lesser beings. Jupiter is the gentle giant among planets in Ve...
Find the impacts of Sun Transits in Capricorn
Sun transits from Sagittarius to Capricorn on January 14, 2022. This is an auspicious time as the Sun is moving to the Uttarayana and it marks a day for any auspicious beginnings. The transit will have different impacts on rasis and bei...
Jupiter Retrograde Transit in Capricorn 2021
Jupiter is currently in Aquarius and in retrograde motion. Jupiter will enter the Capricorn sign on early hours of 15th September 2021 and will stay there till 20th November 2021. Capricorn is an earthy sign and is ruled by Saturn. A...
2021 Sun Transit Gemini to Cancer Astrology Predictions
Sun Transit to Cancer from Gemini on 16th July 2021. This Sun transit may affect the lives of all natives. Find now the date, time, and significance of Sun transit in Cancer and the astrology predictions for each zodiac sign. Aries W...
Venus Transit in Cancer 2021 - Find out the Impacts in Your Life
Venus will be moving into the sign of Cancer on June 22. It will be moving into the watery sign of Cancer and that will impact everyone’s family life. Transits are primarily seen through the Moon sign, so the results will be very visi...
right-arrow
View More
Today's offer
Gift box