लग्न - Janma Lagna (Ascendant)

लग्न - Janma Lagna (Ascendant)

हर व्यक्ति की यह जानने की जिज्ञासा होती हैं कि उसके भाग्य में क्या लिखा है, भाग्योदय कब होगा, जिससे वशीभूत होकर वेदांग ज्योतिष या उनके सिद्धांतो के आधार पर जन्म कुंडली के अध्ययन से जीवन के भूत, वर्तमान और भविष्य का फलादेश किया जा सकता है। जातक का रंगरूप, आचार-विचार, स्वाभाव, गुण, दोष, योग्यता, सफलता, व्यवसाय, रुचि आदि का विचार भी लग्न भाव से किया जाता है। मात्र लग्न जानने के बाद किसी व्यक्ति के स्वभाव व विशेषताओं के विषय में संक्षिप्त जानकारी दी जा सकती है। लग्न भाव जातक के स्वभाव, रुचि, विशेषताओ और चरित्र के गुणों को प्रकट करता है। कुंडली के पहले भाव में जो राशि पड़ती है उसी से लग्न का निर्धारण होता है, जैसे प्रथम भाव में मेष राशि हो तो मेष लग्न होगा, सिंह राशि हो तो सिंह लग्न होगा, आदि। कुंडली में लग्न और लग्नेश का बलवान होना जातक के जीवन में उपरोक्त पहलुओं की शुभ स्थिति प्रदान करता है, वही बलहीन लग्न और लग्नेश व्यक्ति को जीवन में बहुत से उतार-चढ़ाव और संघर्ष का सामना कराते हैं। लग्न में जो राशि हैं, उसी का स्वामी लग्नेश कहा जाता हैं। कुंडली मिलान में भी विवाह लग्न का विचार महत्वपूर्ण हैं। लग्न जन्म कुंडली का सबसे अधिक महत्वपूर्ण भाग हैं और जातक के जीवन फलादेश का आधार स्तंभ है।

जन्म कुंडली और लग्न कुंडली में क्या अंतर हैं और क्या विशेषताएं हैं

कुंडली, अथवा जन्म कुंडली किसी समय विशेष पर किसी स्थान विशेष से दृश्य आकाश का मानचित्र या नक्शा है। कुंडलियों के प्रकार में सबसे प्रमुख जन्म-लग्न कुंडली होती है जिसे लग्न कुंडली भी कहते हैं। लग्न जन्मकुंडली की आत्मा है। खगोलीय सौरमंडल की बारह राशियां क्रमशः एक के बाद एक पूर्वदिशा में उदय होती है। यह क्रम 24 घंटे या 60 घटी मे पूर्ण होकर पुनः शुरू हो जाता है और यही क्रम अनवरत चलता रहता है। पृथ्वी अपनी धुरी पर पश्चिम से पूर्व की परिक्रमा करती है और इसी परिक्रमा के कारण सम्पूर्ण आकाश पूर्वी क्षितिज पर उदय होता जान पड़ता है। उपरांत, आकाश को बारह भागों मे विभाजित कर उन भावों को विभिन्न नाम दिये गए हैं जैसे प्रथम भाव जन्म लग्न या तनु भाव कहलाता है। यह भाव आकाश की पूर्व दिशा को निर्देशित करता है। किसी समय विशेष मे पूर्वदिशा मे जो राशि उदित हो रही हो उसी को प्रदत्त अंक विशेष इस प्रथम भाव में लिखा जाता है। जैसे, यदि प्रथम पूर्वी भाव में अंक '1' लिखा हो तो इसे मेष, '2' लिखा हो तो वृषभ, '3' हो तो मिथुन, इसी प्रकार अन्य राशियों का हर दो घंटे में पूर्व में उदय होता है और इच्छित समय पर जो राशि उदित हो रही हो उसी को उस समय की लग्न राशि मान कर अन्य राशियों को क्रमवार कुंडली में स्थापित कर दीया जाता है और यह जन्म लग्न कुंडली कहलाती है।

Video Reviews

left-arrow
Clickastro Hindi Review on Indepth Horoscope Report - Sushma
Clickastro Hindi Review on Full Horoscope Report - Shagufta
Clickastro Review on Detailed Horoscope Report - Shivani
Clickastro Full Horoscope Review in Hindi by Swati
Clickastro In Depth Horoscope Report Customer Review by Rajat
Clickastro Telugu Horoscope Report Review by Sindhu
Clickastro Horoscope Report Review by Aparna
right-arrow
Fill the form below to get In-depth Horoscope
Basic Details
Payment Options
1
2
Enter date of birth
Time of birth
By choosing to continue, you agree to our Terms & Conditions and Privacy Policy.
User reviews
Average rating: 4.8 ★
2287 reviews
somnath paul
★★★★★
10-07-2024
Too much excitement
atul pandey
★★★★★
09-07-2024
Customer gave me call and clarified and generated a full detailed horroscope report for me.Thanks For your support
thenappan
★★★★
05-07-2024
This is good but can you please give this in tamil
kusum
★★★★★
03-07-2024
Pls send saturn report in Marathi or Hindi Language
hari
★★★★
28-06-2024
I am reading my horoscope for the first time. Hence it seems to be true based on the facts it mentioned which is similar to my life. I am happy with this in-depth horoscope!
shalaka joshi
★★★★★
27-06-2024
Immidiate report recd on mail. One can download, print, cqn refer anytime. It is nice app and good people to cosult with. Very happy
ankit
★★★★★
27-06-2024
Good
rahul dev
★★★★★
25-06-2024
Excellent
nita
★★★★★
25-06-2024
Good service.
gopal
★★★★★
25-06-2024
Very nice
sujitha
★★★★
24-06-2024
Nice
balasubramanian
★★★★★
24-06-2024
Good
sanjay paliath
★★★★★
24-06-2024
Happy with clickastro especially daily details,manthras to chant precautions to take also customer executive assistance.
sanjay paliath
★★★★★
24-06-2024
Happy with clickastro especially daily details,manthras to chant precautions to take also customer executive assistance.
arti
★★★★★
13-06-2024
Recently download my kundali from this website clickastro. But while giving details I added south chart, as I was not aware of the chart layouts. Manju ji called me about service feedback when I told her that I need to rectify this chart she did corrected it and provided me the chart I want. Big thank you to Manju ji and clickastro for the detail kundali.
nakul. chalotra
★★★★★
09-06-2024
Every prediction is based on extensive study of astrology.
partha mukherjee
★★★★
08-06-2024
No comments for the month of March.
madhu
★★★★★
02-06-2024
Spr agiede
vishakha kashiv
★★★★★
02-06-2024
Report received before mentioned time,supportive staff
dhananjay roy
★★★★★
30-05-2024
Good ????
jayalakshmi
★★★★
27-05-2024
good
rooplal
★★★★★
27-05-2024
Shubhkamnaayein
pavankalyan
★★★★★
16-05-2024
Super this is correct
hari
★★★★★
10-05-2024
Super
saurabh chaudhary tom
★★★★★
08-05-2024
Bilkul Sat pratishat sahi batata hai
lokanath goudar
★★★★★
07-05-2024
My birth time is 3.20 pm Plz check
samarjit jana
★★★★
02-05-2024
I prefer to get the report in English, my mother tongue is bengali, but can't read bengali. Please send the report once again in English
fathima bi
★★★★★
28-04-2024
Nice???? prediction I am happy????
yakini
★★★★
27-04-2024
Please send this report tamil language
ashok kumar bazaz
★★★★★
24-04-2024
Please send me your advice to my Smooth carear Sir can I talk with you on phone please intimate me Handfolded Namaskar to you and your team.

लग्न कुंडली कैसे बनाई जाती हैं

लग्न कुंडली बनाने हेतु जन्म तारीख, जन्म समय, जन्म स्थान के अक्षांश देशांश, स्थानिक सूर्योदय, लग्न सारणी की आवश्यकता होती है। लग्न कुंडली बनाते समय लग्न और अन्य सभी भाव स्थिर रहते हैं, और राशियां हर 2 घंटे में स्थान परिवर्तन करती हैं, या चल होती हैं। उदाहर्नार्थ, यदि सूर्योदय के समय पूर्व दिशा में मेष राशि का उदय हो रहा हो, तो यह मेष लग्न की कुंडली होगी। यहां सूर्योदय होने से सूर्य पूर्व में होगा और लग्न भाव में स्तिथ होगा। जैसे हमने पहले देखा, पूरे 24 घण्टों मे 12 लग्नों का उदय होने से दिनभर में 12 लग्न कुंडलियां बनती हैं। अर्थात, दिन या रात्रि में किसी भी इच्छित समय पर पूर्व में जिस राशि का उदय हो रहा हो उस समय लग्न में उसी राशि का प्रतिनिधि अंक तनु भाव में लिख कर अन्य राशियों और स्पष्ट ग्रह तालिका में निर्देशित ग्रहों को स्थापित कर के लग्न कुंडली प्राप्त की जाती है। शुभाशुभ फलकथन के लिए लग्न पर ग्रह की स्तिथि और दृष्टी का अति महत्व हैं। लग्न शुभ ग्रह से दृष्ट हो या शुभ योग हो, तो जातक स्वास्थ्य, धन-संपत्ति, सुख पाता है। फलकथन लग्न और राशि दोनों द्वारा किया जाता हैं, लग्न से फलादेश जातक की क्षमता व योग्यता को पहचान कर जातक का समुचित विकास करना है।

What others are reading
left-arrow
Where do you get free online astrology? Which site is most reliable?
Where do you get free online astrology? Which site is most reliable?
Free astrology services: Where do you get them?
Free astrology services: Where do you get them?
Ever heard about free astrology services? Sounds surprising, right? Well, the digital world is now abuzz with various astrology service providers introducing apps and websites that provide free astrology services. Several well-known dig...
One App, Many Solutions - Complete Astrology App from Clickastro
One App, Many Solutions - Complete Astrology App from Clickastro
Clickastro FREE Horoscope Apps - Astrology Guidance Anytime
Clickastro FREE Horoscope Apps - Astrology Guidance Anytime
Astrology Consultancy App - Expert guidance Anytime Anywhere
Astrology Consultancy App - Expert guidance Anytime Anywhere
Consult the best astrologers in India from your Mobile! In the modern world where everything is met through online, Clickastro is introducing a mobile app for astrology consultations. You would be already familiar with various Clickast...
right-arrow
Today's offer
Gift box